COVID 19 Cases -
CONFIRMED 7,173,565
ACTIVE 0
RECOVERED 6,224,792
DECEASED 109,894
 Last Update : 13 Oct-2020 03:41:18 am

रिपोर्ट में दावा: 18 करोड़ लेकर रिहाना ने भारत के विरोध में किया ट्वीट, खालिस्तान समर्थकों के संबंध भी आए सामने

06 Feb-2021

भारत में संसद के द्वारा लोकतांत्रिक विधि से बनाए गए कृषि कानूनों के विरोध में बीते 2 महीने से जिस तरह की अराजकता देश में देखी जा रही है वह ना सिर्फ दुर्भाग्य है बल्कि इसके नाम से जिस तरह से विदेशी शक्तियों का इस्तेमाल कर भारत में अस्थिरता पैदा करने की कोशिश की गई है वह पूरी तरह से किसी बड़े साजिश की ओर संकेत करती है।

इन्हीं गतिविधियों के बीच इस आंदोलन को लेकर भारत पर सवाल उठाने वाली पॉप सिंगर रिहाना अब खुद विवादों में घिर गई है। कुछ रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि भारत के लोकतंत्र के खिलाफ सोशल मीडिया पोस्ट करने के लिए उसे कनाडा की एक पीआर फर्म ने ₹18 करोड़ दिए थे जिसके तार खालिस्तान समर्थकों से जुड़े हुए हैं।

एक न्यूज़ मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कनाडा के संगठन पोएटिक जस्टिस फाउंडेशन ने एक ग्लोबल कैंपेन शुरू किया और इसे कनाडा में स्थित एक्टिविस्ट और राजनीतिज्ञों ने सपोर्ट किया। इस रिपोर्ट के मुताबिक वहां के एक पीआर फर्म ने रिहाना को भारत में चल रहे आंदोलन के समर्थन में पोस्ट करने के लिए तकरीबन ₹18 करोड़ दिए।

इसमें यह भी खुलासा हुआ है कि जिस टूलकिट को वामपंथी विचार को के द्वारा स्थापित की गई प्रोपेगेंडा गर्ल के नाम से कुख्यात ग्रेटा थनबर्ग ने शेयर किया था वह भी उस तक पहुंचाई गई थी ताकि भारत खिलाफ नफरत पैदा करने की साजिश को अंजाम दिया जा सके।

इस रिपोर्ट में यह भी जानकारी दी गई है कि रिहाना को पैसा देने वाले पियर फॉर्म का डायरेक्टर धालीवाल है और उसी ने उस टूलकिट को बनाया था जिसे वामपंथी प्रोपेगेंडा गर्ल ग्रेटा थनबर्ग ने अपनी पोस्ट में शेयर किया था। धालीवाल ने खुद सोशल मीडिया में डालकर यह स्वीकार किया था कि वह खालिस्तानी है और खालिस्तान विचार का समर्थन करता है।


Create Account



Log In Your Account