COVID 19 Cases -
CONFIRMED 7,173,565
ACTIVE 0
RECOVERED 6,224,792
DECEASED 109,894
 Last Update : 13 Oct-2020 03:41:18 am

पॉजिटिव नैरेटिव: 71 वर्षीय जेमिनिबेन के जज्बे को सलाम, कोरोना मरीजो का निडरता से रख रही है ध्यान

02 May-2021

चाहे कोरोना की मार जितनी भी हो कोरोना वारियर्स कोरोना से फैले भय को लेकर सकारात्मक ऊर्जा पैदा किया करते है। गुजरात के दाहोद में मैत्रो जेमिनिबेन जोशी नाम की एक वृद्ध नर्स है। उनके काम करने के जज्बे से कोरोना मरीज भी प्रभावित है। जहाँ एक ओर कोरोना वायरस की वजह से लोग घरों में बंद है।

अस्पताल जाने की तो सपने में भी सोच नही रहे ऐसे में 71 वर्षीय बुजुर्ग नर्स जेमिनिबेन जोशी के जज्बे को आज हर कोई सलाम कर रहा है। इनके अदम्य साहस से जिस चिकित्सालय में काम करती है वहाँ के अधिकारी आश्चर्यचकित है। 

इस महामारी में लोगो की सेवा के पीछे जुड़ी है जेमिनिबेन कि भावनाएं

जेमिनिबेन कहती है कि उनके पिताजी दाहोद में ही चित्रकारी का कार्य करते थे वह एक कुशल चित्रकार थे। मैत्रो जब 8 वर्ष की थी तभी उनके सर से पिता का साया उठ गया था। इनके पिता कैंसर से पीड़ित थे और उसी वजह से उनकी मृत्यु हो गयी।

उसके कुछ दिन बाद ही माँ की हृदय गति रुकने मृत्यु हो गयी। उसी समय के बाद से जेमिनिबेन को ये महसूस हुआ की बीमारियां इंसान को कितनी परेशान करती है।

इन सब के बाद से ही जेमिनिबेन ने ये ठाना की वो बीमार लोगो की सेवा करेंगी और इसी कार्य मे अपना जीवन समर्पित करेंगी। फिर इन्होंने इरविन कॉलेज जामनगर से नर्सिंग का कोर्स किया। 

अविवाहित होकर जीवन मरीजो को किया समर्पित

जेमिनिबेन ने अविवाहित रहने का फैसला किया और पूरी उम्र उन्होंने मरीजो के इलाज में लगा दी। ये 71 वर्ष की उम्र में भी बिल्कुल स्वस्थ है और इन्हें किसी भी प्रकार की कोई परेशानी नही है कई लोगो को इस बात पर अचंभा होता है कि यह पूरे दिन काम करने के बाद भी अपने घर पर भी बिल्कुल थकी हुई सी नही रहती है।

जेमिनिबेन जोशी इतनी उम्रदराज होने के बाद भी कभी लिफ्ट लेना पसंद नही करती है। चढ़ने उतरने के लिए वह सीढ़ियों के इस्तेमाल करती है। इनकी ये पूरी कोशिश रहती है कि ये मरीज के आखरी सांस तक उनकी सेवा करती रहे।


Create Account



Log In Your Account